Home States Chhattisgarh यहाँ के बच्चे है निडर, पढ़ते हैं नक्सलियों के बीच रहकर

यहाँ के बच्चे है निडर, पढ़ते हैं नक्सलियों के बीच रहकर

0
0
678

जगदलपूर: जिला मुख्यालय से 105 और लोहण्डीगुडा ब्लाक मुख्यालय से लगभग 70 किलो मीटर दूर नक्सल प्रभावित पिच्चीकोडेर बालक छात्रावास में अध्ययनरत बच्चों को नक्सलियों की करतूत भी विद्या अध्ययन से रोक नहीं पा रही है। इनके भवन को दस वर्ष पूर्व नक्सलियों ने गिराकर खण्डर में तब्दिल कर दिया था वर्तमान में आश्रम केवल ढांचा ही शेष है। बावजूद बच्चों के हौसलों की दाद देनी पड़ेगी। जो क्षतिग्रस्त भवन में नक्सली खौफ के बीच भी पढ़ाई कर रहें हैं। इस स्कूल में पहली से पांचवी तक 70 बच्चे अध्ययनरत हैं।
अधीक्षक रमेश बैज के मुताबिक नक्सलियों ने वर्ष 2007 में भवन को तोड़ दिया था। उनके मुताबिक भवन की स्थिति काफी दयनीय है। उनके अलावा सात कर्मचारी और 70 बच्चे जान जोखिम में डालकर रहते हैं।
भवन की मरम्मत के लिए लोहण्डीगुड़ा सीईओ को तीन दफे पत्र लिखकर गुहार भी लगाया जा चुका है। बावजूद अभी तक उनके जिम्मेदारों को इसकी सुध लेने की फुरसत नहीं मिली। उन्होंने कहा कि, उच्च अधिकारियों से भी वे कई दफे गुजारिश कर चुके हैं, लेकिन किसी ने भी मरम्मत की पहल नही की। यहां रहने वाले सभी स्टाफ और बच्चों को मौसम की मार भी झेलनी पड़ रही है। बारिश में जहां पानी अंदर घुसता है तो ठंड में बिना दीवार की छत में भी दिक्कत होती है।
आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त गायत्री नेताम ने कहा कि, पिच्ची कोडेर आश्रम की मरम्मत के लिए आवेदन मिला है जिसे संज्ञान में लेते हुए निविदा आमंत्रित की गई है। जल्द ही आश्रम के मरम्मत का कार्य शुरू किया जाएगा। इसके लिए संबंधित अधिकारियों से भी चर्चा की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.