Home Breaking News वाजपेयी की हालत बेहद नाजुक, थोड़ी देर में मेडिकल बुलेटिन, AIIMS से निकले मोदी

वाजपेयी की हालत बेहद नाजुक, थोड़ी देर में मेडिकल बुलेटिन, AIIMS से निकले मोदी

0
0
107

राजधानी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) की तबीयत नाजुक बनी हुई है. पिछले दो दिनों में उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हुआ है. गुरुवार सुबह वाजपेयी की तबीयत पर नया मेडिकल बुलेटिन जारी किया गया. वाजपेयी की तबीयत अभी भी बेहद नाजुक बनी हुई है. वह अभी भी लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आज फिर एम्स पहुंचकर उनका हाल जाना. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एम्स डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया और वाजपेयी के परिवार के साथ उनके स्वास्थ्य पर चर्चा की. अटल बिहारी वाजपेयी की सेहत पर एम्स दोबारा मेडिकल बुलेटिन जारी करेगा. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी एम्स पहुंचे हैं.

इस बीच अटल बिहारी वाजपेयी के घर पर एसपीजी की टीम पहुंच गई है, पूरे इलाके में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. कई जगह पर बैरिकेडिंग भी कर दी गई है.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी समेत बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं ने एम्स पहुंच उनका हाल जाना. इनके अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी एम्स पहुंचे.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्री अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिल्ली पहुंच रहे हैं.

अटल बिहारी वाजपेयी की खराब तबीयत के कारण भारतीय जनता पार्टी ने देशभर में अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं. इसके अलावा भी बीजेपी शासित राज्यों की प्रदेश सरकारों ने भी सभी सरकारी कार्यक्रमों को भी रद्द कर दिया है.

Former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee’s condition continues to remain the same. He is critical and on life support systems: AIIMS statement

एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम लगातार वाजपेयी के स्वास्थ्य पर नजर रखे हुए है. एम्स की ओर से बुधवार शाम जारी मेडिकल बुलेटिन में बताया गया था कि उनकी हालत नाजुक है, पिछले 24 घंटे में उनकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ है. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है.

मोदी ने जाना था वाजपेयी का हाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बुधवार शाम AIIMS पहुंचकर वाजपेयी का हाल जाना था. पीएम मोदी करीब 50 मिनट तक एम्स में रहे. प्रधानमंत्री के अलावा कई और केंद्रीय मंत्रियों ने अस्पताल जाकर वाजपेयी के हेल्थ की जानकारी ली. पक्ष-विपक्ष के तमाम नेताओं ने ट्वीट कर वाजपेयी के दीर्घायु होने की कामना की. वाजपेयी के स्वास्थ्य के बारे में लोग दुआएं कर रहे हैं. वाजपेयी के परिवार के नजदीकी लोग भी AIIMS में ही डटे हुए हैं.

बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नाम की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं और 2009 से ही व्हीलचेयर पर हैं. कुछ समय पहले भारत सरकार ने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया.

अटल बिहारी वाजपेयी 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से लोकसभा सदस्य चुने गए थे. वो बतौर प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूर्ण करने वाले पहले और अभी तक एकमात्र गैर-कांग्रेसी नेता हैं. 25 दिसंबर, 1924 में जन्मे वाजपेयी ने भारत छोड़ो आंदोलन के जरिए 1942 में भारतीय राजनीति में कदम रखा था.

एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम लगातार वाजपेयी के स्वास्थ्य पर नजर रखे हुए है. एम्स की ओर से बुधवार शाम जारी मेडिकल बुलेटिन में बताया गया था कि उनकी हालत नाजुक है, पिछले 24 घंटे में उनकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ है. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है.

मोदी ने जाना था वाजपेयी का हाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बुधवार शाम AIIMS पहुंचकर वाजपेयी का हाल जाना था. पीएम मोदी करीब 50 मिनट तक एम्स में रहे. प्रधानमंत्री के अलावा कई और केंद्रीय मंत्रियों ने अस्पताल जाकर वाजपेयी के हेल्थ की जानकारी ली. पक्ष-विपक्ष के तमाम नेताओं ने ट्वीट कर वाजपेयी के दीर्घायु होने की कामना की. वाजपेयी के स्वास्थ्य के बारे में लोग दुआएं कर रहे हैं. वाजपेयी के परिवार के नजदीकी लोग भी AIIMS में ही डटे हुए हैं.

बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नाम की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं और 2009 से ही व्हीलचेयर पर हैं. कुछ समय पहले भारत सरकार ने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया.

अटल बिहारी वाजपेयी 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से लोकसभा सदस्य चुने गए थे. वो बतौर प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूर्ण करने वाले पहले और अभी तक एकमात्र गैर-कांग्रेसी नेता हैं. 25 दिसंबर, 1924 में जन्मे वाजपेयी ने भारत छोड़ो आंदोलन के जरिए 1942 में भारतीय राजनीति में कदम रखा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.