Home Breaking News रायपुर शहर में कई स्थानों पर कॉपर मून पिकनिक का आयोजन

रायपुर शहर में कई स्थानों पर कॉपर मून पिकनिक का आयोजन

0
0
172

 

छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा , अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति तथा आयुका रिफरेंस सेंटर पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय रायपुर के द्वारा संयुक्त रूप से शाला प्रबंधन, शासकीय बहुउद्देश्यीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नलघर चौक रायपुर के साथ मिलकर दिनांक 31 जनवरी 2018 की शाम दिखाई देने वाले पूर्ण चंद्रग्रहण के बारे में जन चेतना फैलाने के लिए और अंधविश्वासों की जकड़न से विद्यार्थियों और आम लोगों को मुक्त कराने के उद्देश्य कॉपर मून पिकनिक का आयोजन स्कूल प्रांगण में किया जा रहा है इसके साथ-साथ शहर में और भी कई स्थानों पर कॉपर मून पिकनिक का आयोजन किया जाएगा । पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय कैंपस, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामनगर, सड्डू में S B P E के स्कूल, डंगनिया में सावित्री बाई फुले स्कूल, सरोना में सावित्री बाई फुले स्कूल तथा लालपुर के मिंटू शर्मा हायर सेकेन्डरी स्कूल में 31 जनवरी शाम 5.30 से 7.30तक कॉपर मून पिकनिक के आयोजन की तैयारी की जा रही है।
मल्टीपर्पस स्कूल, नलघर चौक में विज्ञान सभा के कार्यकारी अध्यक्ष प्रोफेसर एम एल नायक तथा अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति के अध्यक्ष डॉ दिनेश मिश्र,
रामनगर हायरसेकंडरी स्कूल में प्राचार्य, श्री आदित्य चांडक, ग्राम
सड्डू में श्री शीतल साहू, कापर मून पिकनिक में रिसोर्स पर्सन होंगे, लालपुर में महेश साकल्य रिसोर्स पर्सन के रूप में मौजूद होंगे।

कापर मून पिकनिक का आयोजन लोगों के मन मस्तिष्क में सदियों से बैठे अंधविश्वासों को दूर करने के लिए किया जा रहा है इसलिए ग्रहण से संबंधित कौतूहल का उपयोग ग्रहण के बारे में प्रचलित अंधविश्वासों और रूढ़ियों , जैसे कि ग्रहण के दौरान लगे सूतक के कारण घर से बाहर न निकलना, खाना पीना वर्जित होना, भोजन सामग्री को फेंक देना, कोई भी शुभ कार्य नहीं करना इत्यादि को वैज्ञानिक चिंतन के साथ लोगों को बताना है । इनका खंडन करते हुए, खुले में टेलिस्कोप से चंद्रग्रहण देखते हुए, खाते पीते हुए, विज्ञान गीत गाते हुए लोग अंधविश्वासों को तोड़ेंगे और छोड़ेंगे। इस अवसर पर जादू टोना, झाड़फूंक, टोनही आदि के अंधविश्वासों के विरुद्ध भी वातावरण बनाया जाएगा और इससे होने वाली जनधन की हानि और अपराध पर लोगों को जागरूक किया जाएगा।

कापर मून पिकनिक में विशेषज्ञ वैज्ञानिक तरीके से लोगों को बताएंगे कि चंद्र और सूर्यग्रहण क्यों होते हैं । सूर्य चंद्रमा और पृथ्वी की गतियां कैसी होती है। इनका एक समतल ( प्लेन) में आना और इससे जुड़े कई सारे सवालों का जवाब देना भी इसमें शामिल है ।
विज्ञान सभा द्वारा अपने 150 मिलीमीटर व्यास के रिफ्लेक्टर टेलिस्कोप से चंद्रग्रहण दिखाने के साथ साथ, कार्यक्रम में शामिल होने वाले विद्यार्थियों और लोगों से दोतरफा संवाद स्थापित करने के लिए
एक क्विज भी आयोजित किया जा रहा हैं जिसमें ग्रहण से जुड़े खगोलभौतिक विज्ञान के सवाल और अंधविश्वासों पर भी सवाल होंगे। इसके साथ ही विशेषज्ञ सही कारण बता कर विद्यार्थियों के ज्ञान को समृद्ध करेंगे।
इसके अलावा सौर मंडल के ऊपर एक प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जा रहा है।

इस अवसर पर विद्यार्थियों के साथ फेस टू फेस अर्थात रूबरू कार्यक्रम में प्रोफेसर एम एल नायक और डॉ दिनेश मिश्र विद्यार्थियों के सवालों के जवाब देंगे ।

छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा द्वारा पूर्णचंद्र ग्रहण के अवसर पर पूरे प्रदेश भर में विभिन्न स्थानों पर कापर मून पिकनिक का आयोजन किया जा रहा है। सरायपाली में यशवंत चौधरी के संयोजन में, बसना में अजय भोई के संयोजन में, पिथौरा में बाल मंदिर में हेमंत खुटे तथा राजेंद्र पुरोहित के संयोजन में , कोरबा में डॉक्टर वाई के सोना तथा एस के बंजारा के संयोजन में डॉ अम्बेडकर ओपन थियेटर, घंटाघर चौक में, बिलासपुर में विजय शंकर पात्रे के संयोजन में एसईसीएल में , भिलाई में विज्ञान सभा तथा रायपुर डिवीजन इंश्योरेंस इंपलाइज यूनियन भिलाई द्वारा संयुक्त रुप से शत्रुघ्न धुरंधर , शरद कोकास तथा प्रमोद नायर के संयोजन में , दुर्ग में भिलाई इंस्टीट्यूट आफ़ टेक्नोलॉजी बी आई टी में एस्ट्रो क्लब के तत्वाधान में सुजॉय मुखर्जी के संयोजन में , धमतरी में शासकीय पॉलिटेक्निक प्रांगण में लोकेंद्र सिंह के संयोजन में , कांकेर में अनुपम जोफर के संयोजन में , बालोद में भूपेंद्र योगी के संयोजन में कापर मून पिकनिक का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर विज्ञान सभा द्वारा विद्यार्थियों और आम लोगों से इस पिकनिक में भाग लेकर संविधान के अनुच्छेद 51में वर्णित हमारे राष्ट्रीय कर्तव्य -वैज्ञानिक चेतना को अपनाने – की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.