Home Breaking News पहाड़ों पर बर्फबारी से फिर कांपा उत्तर भारत, मैदानी इलाकों में बारिश से किसान खुश

पहाड़ों पर बर्फबारी से फिर कांपा उत्तर भारत, मैदानी इलाकों में बारिश से किसान खुश

0
0
128

नई दिल्ली (जेएनएन)। उत्तर भारत में ठंड फिर लौट आई है। दरअसल, मंगलवार को पहाड़ी राज्यों हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी ने तापमान गिराया तो मैदानी इलाकों में कहीं हल्की तो कहीं सामान्य बारिश ने मौसम में बदलाव ला दिया। कुछ घंटों बाद इसका असर भी दिखा। इससे देश की राजधानी दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत ठंड बढ़ गई है।

मौसम विभाग ने कश्मीर घाटी में बर्फबारी या फिर बारिश का अनुमान भी जताया है। बारिश से किसानों को काफी राहत मिली है, वहीं कृषि विशेषज्ञों के मुताबिक, इस समय हल्की बारिश फसल के लिए अच्छी मानी जाती है।

बुधवार उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में भारी बर्फबारी हुई है, जिससे यहां स्थित गंगोत्री मंदिर के आसपास बर्फ की चादर बिछी नजर आ रही है। जानकारी के मुताबिक, यह बर्फबारी आज सुबह हुई हैष

र्

बता दें कि कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के ऊपरी इलाकों में मौसम पहले से सर्द है, जबकि मैदानी इलाकों में कोहरे से यातायात प्रभावित हुआ। आसमान में बादल छाए रहने से भी तापमान तेजी से गिरा है और सर्दी बढ़ी है।

जानकारी के मुताबिक, हिमाचल प्रदेश में शिमला और आस पास के इलाकों सिरमौर, सोलन और लाहौल तथा स्पीति में बर्फबारी हुई है। वहीं, कश्मीर के करगिल में तापमान शून्य से 19.2 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। श्रीनगर में शून्य से 3.7 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया, जबकि लेह में पारा शून्य से 14 डिग्री सेल्सियस कम रहा।

मसूरी-नैनीताल में मौसम का पहला हिमपात

उत्तराखंड में मौसम करवट बदलने लगा है। मसूरी और नैनीताल में मौसम का पहला हिमपात हुआ है तो देहरादून जिले के चकराता में भी हल्की बर्फबारी हुई है। उधर जम्मू कश्मीर में वैष्णो देवी भवन पर भी मौसम का पहला हिमपात हुआ। वहीं हिमाचल प्रदेश में बारिश और बर्फबारी की सौगात देकर लोगों के चेहरे पर रौनक ला दी है।

मंगलवार शाम को उत्तराखंड के बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में बर्फ गिरनी शुरू हो गई। राज्य के पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों में शीतकाल की पहली बारिश भी हुई। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में बारिश-ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की है। इसे देखते हुए देहरादून व टिहरी में स्कूल बंद रखने को कहा गया है।

जम्मू कश्मीर में बदला मौसम का मिजाज

जम्मू कश्मीर में मंगलवार को उच्चपर्वतीय इलाकों में हिमपात और निचले क्षेत्रों में बारिश का सिलसिला शुरू हो गया। माता वैष्णो देवी के त्रिकुटा पर्वत के साथ वैष्णो देवी भवन व भैरो घाटी पर मौसम का पहला हिमपात हुआ। वहीं जम्मू में दिनभर हल्की बारिश से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटों के दौरान भी राज्य के ऊपरी इलाकों में हल्की बर्फबारी व बारिश की संभावना है।

हिमाचल में बारिश-बर्फबारी ने भरे सूखे के जख्म

हिमाचल प्रदेश में साल की पहली बर्फबारी से शिमला के जाखू में 10 तथा रिज और नारकंडा में छह सेंटीमीटर हिमपात दर्ज किया गया। लाहुल-स्पीति के केलंग और किन्नौर के कल्पा में शाम छह बजे के करीब बर्फबारी शुरू हुई।

फसलों को फायदा, किसानों को राहत

मंगलवार को दिल्ली समेत उत्तर भारत के कई राज्यों में हुई बारिश से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं। हालांकि, बारिश से गलन बढ़ गई है लेकिन किसान इसकी परवाह न करते हुए बारिश को खेती के लिए काफी मुफीद मान रहे हैं। कृषि वैज्ञानिकों की राय भी किसानों से इतर नहीं है।

कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार, यह बारिश फसलों के लिए संजीवनी के समान है। हरियाणा के गुरुग्राम में दिन भर रुक-रुककर बारिश होती रही। सोनीपत में सर्वाधिक 25 एमएम बारिश हुई, जबकि करनाल, कैथल, कुरुक्षेत्र, हिसार, जींद, रेवाड़ी, फरीदाबाद में भी बारिश हुई।

वहीं पंजाब के भी कई हिस्सों में बारिश हुई जिससे गेहूं उत्पादक किसानों में खुशी के भाव देखे गए। इसी तरह उप्र के भी कई हिस्सों में बारिश हुई।

दिल्ली-NCR में लौट आई ठंड

दिल्ली-एनसीआर के लोगों को बुधवार की सुबह फिर सर्दी के लौटने का अहसास हुआ। दरअसल, मंगलवार को हुई झमाझम बारिश से तापमान ही नहीं, बल्कि वायु प्रदूषण का स्तर भी गिर गया। एयर क्वालिटी इंडेक्स में खासी गिरावट दर्ज की गई।

बताया जा रहा है कि बुधवार को इसमें और कमी आने के आसार हैं। बारिश के कारण धूल-मिट्टी सब बैठ गई। ऐसे में वायु प्रदूषण घट गया। जिन इलाकों में आमतौर पर एयर इंडेक्स 400 से ऊपर रहता है, वहां भी यह घटकर 300 तक पहुंच गया। सफर इंडिया के मुताबिक अगले 24 घंटों में एयर इंडेक्स में और कमी आएगी।

बुधवार को मौसम साफ रहेगा। आंशिक रूप से बादल भी छाए रहेंगे, लेकिन बाद में आसमान साफ हो जाएगा। अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमश: 20 और 6 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

स्काईमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत ने बताया कि अब धीरे-धीरे तापमान बढ़ना शुरू हो जाएगा। मतलब, ठिठुरन और सर्दी में कमी आएगी। बारिश होने की कोई संभावना नहीं है।

वहीं, बारिश, कोहरा और ठंड का असर ट्रेनों के संचालन पर भी पड़ा है। जानकारी के मुताबिक 25 ट्रेनें देरी से चल रही है, वहीं 3 के समय में बदलाव किया गया है, जबकि 18 ट्रेनें रद कर दी गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.