Home Breaking News कांग्रेस प्रत्याशी करूणा शुक्ला ने किया धुंआधार जनसंपर्क

कांग्रेस प्रत्याशी करूणा शुक्ला ने किया धुंआधार जनसंपर्क

0
0
82

राजनांदगांव। कांग्रेस प्रत्याशी श्रीमती करूणा शुक्ला अपने चुनावी जनसंपर्क अभियान के तहत मां शीतला मंदिर के प्रागंण से पूजा अर्चना कर अपने चुनावी जनसंपर्क का धुंआधार दौरा कर मतदाताओं से रूबरू मिलकर विजयश्री दिलाने की अपील की।
कांग्रेस के प्रवक्ता इकरामुद्दीन सोलंकी ने बताया कि श्रीमती करूणा शुक्ला को वार्ड के मतदाताओं ने फुल मालाओं से लाद दिया तथा महिलाओं ने आरती उतारकर श्रीमती शुक्ला का स्वागत किया। कांग्रेस प्रत्याशी श्रीमती करूणा शुक्ला आज अपने चुनावी अभियान जनसंपर्क के तहत शहर के जमातपारा, गुरूद्वारा चौक, मानव मंदिर चौक, गांधी चौक, दीवानपारा, सोनारपारा, सागर पारा, दिग्विजय कालेज, बांसपाई पारा, दुर्गा चौक, आजाद चौक में मतदाताओं से डोर टू डोर जनसंपर्क करते हुए कहा कि आप लोगां का स्नेह, प्यार को देखते हुए मुझे पक्का विश्वास हो गया है, कि मेरी जीत सुनिश्चित है। वहीं दूसरी ओर इस शहर के विधायक एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री डा. रमन ङ्क्षसह है जो सिर्फ विकास की बड़ी बड़ी बात करते हुए 15 वर्ष निकाल दिये। शहर का विकास करने का दावा करने वाले लोग नगर निगम से लेकर पंचायत स्तर तक भ्रष्टाचार में लिप्त है। अफसोस की बात यह है कि मुख्यमंत्री पूरे प्रदेश में शराब बेचने का काम करते हुए नजर आ रहे है, जब अन्य सरकारें शराब बंदी कर रही थी तब मुख्यमंत्री ने छग की जनता के इच्छा के विपरीत खुद शराब बेचने में लग गये। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों केा धता बताने के लिए हाईवे को सड़क में बदल दिया। वहीं दूसरी ओर भाजपा के सारे नेता सरकार के विभिन्न एजेंसियों में ठेकेदार कर बनकर भ्रष्टाचार में लिप्त है।

श्रीमती शुक्ला ने सच यह है कि छत्तीसगढ़ पिछले 15 वर्षों में छत्तीसगढ़ में विकास की जगह विनाश अधिक हुआ है, जब राज्य बना तो छत्तीसगढ़ में 37 प्रतिशत गरीब थे, अब वे बढ़कर 50 प्रतिशत तक हो गए हैं। नेशनल सैंपल सर्वे की रिपोर्ट बताती है कि देश की सबसे ज़्यादा झुग्गियां छत्तीसगढ़ में हैं, यहां 18 प्रतिशत आबादी झुग्गियों में रहती है। भारत सरकार के आंकड़े बताते हैं कि छत्तीसगढ़ उन राज्यों में से एक है जहां किसान सबसे अधिक मजदूर बनने पर मजबूर हुए हैं। पिछले तीन वर्षों में ही छत्तीसगढ़ में 1400 से अधिक किसानों ने आत्महत्या की है। खुद मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह के क्षेत्र में कई किसानों ने आत्महत्या की है। महिलाओं और बच्चों में कुपोषण के मामले में छत्तीसगढ़ सबसे पिछड़ा हुआ है, 15 वर्षों के कथित विकास के बाद भी यहां करीब 38 प्रतिशत कुपोषित हैं। गांवों में तो यह प्रतिशत 60 से भी अधिक चला जाता है।

श्रीमती शुक्ला ने कहा कि विकास का आलम यह है कि रमन सिंह को विकास दिखाने के लिए पूरे प्रदेश से जनप्रतिनिधियों को ढो-ढोकर नया रायपुर दिखाना पड़ा। बेरोजगारी के आंकड़े आसमान छू रहे है। पंजीकृत और अपंजीकृत बेरोजगार मिलाकर प्रदेश में लगभग 50 लाख बेरोजगार हैं। प्रदेश के 70 से भी अधिक कर्मचारी पिछले दो वर्षों में हड़ताल करते रहे। पहली बार पुलिस विभाग में भी नाराजगी दिखाई दी। श्रीमती शुक्ला ने मतदाताओं से कहा कि मुझे इस चुनाव में मौका दीजिए, जनप्रतिनिधि कैसा होता है, मैं आप लोगों को बताऊंगी।
इस दौरान शहर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश शर्मा, श्रीकिशन खंडेलवाल, रमेश राठौर, रमेश डाकलिया, शरद चितलंग्या, परशु राम जैसवाल, जितेंद्र मुदलियार, बसंत बहेकर, सुदेश देशमुख, हफीज खान, कुलबीर सिंह छाबड़ा, हेमा देशमुख, निखिल द्विवेदी, कमलजीत सिंह पिंटू, रूबी गरचा, झम्मन देवांगन, प्रेमचंद बाफना, मामराज अग्रवाल, नत्थू अग्रवाल, रज्जु जान, चेतन भानुशाली, शारदा तिवारी, दशरथ शर्मा, महेश शर्मा, राकेश जोशी, अशोक फडनवीस, नीतू फडऩवीस, कादिर सोलंकी सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.