Home Breaking News Election खास-क्या कांग्रेस गिफ्ट में जूदेव परिवार को दे देगी जशपुर की तीन सीटें? वयोवृद्ध रामपुकार समेत तीनों हारे हुए को लड़ने उतार डाला

Election खास-क्या कांग्रेस गिफ्ट में जूदेव परिवार को दे देगी जशपुर की तीन सीटें? वयोवृद्ध रामपुकार समेत तीनों हारे हुए को लड़ने उतार डाला

0
0
57

रायपुर, 30 अक्टूबर 2018। 15 साल से वनवास काट रही कांग्रेस पार्टी ने जशपुर जिले की तीन सीटों पर जिस किस्म के प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है, लोग चुटकी ले रहे हैं कि क्या कांग्रेस ने जूदेव परिवार को गिफ्ट में तीन सीटें दे देगी। ताकि, सियासत में जूदेव परिवार का वजन कायम रहे।
जशपुर जिले में तीन विधानसभा सीट हैं। जशपुर, पत्थलगांव और कुनकुरी। तीनों फिलहाल भाजपा के कब्जे में है। इनके खिलाफ अंदेशा था कि कांग्रेस टक्कर देने के लिए ठीक-ठाक प्रत्याशी को अबकी चुनाव मैदान में उतारेगी। लेकिन, लंबी मशक्कत के बाद कांग्रेस ने जिस तरह सूची जारी की, उससे कांग्रेस कार्यकर्ता भी हैरान हैं। पत्थलगांव में पिछले बार पराजय का स्वाद चख चुके पूर्व मंत्री रामपुकार सिंह पर कांग्र्रेस ने भरोसा किया है। जबकि, 2013 में वे तो चुनाव हारे ही, 2014 के लोकसभा चुनाव में उनकी बेटी को भी रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र से करीब दो लाख वोटों से विष्णुदाय साय से शिकस्त मिली थी। छह बार के विधायक रामपुकार सिंह वैसे भी अब उम्रदराज हो चुके हैं। उनकी उम्र 80 पार हो गई है। इसी तरह जशपुर में पिछले चार बार से लगातार हार रहे पिता-पुत्र को टिकिट दे रही है। दो बार रामदेव भगत चुनाव हारे, उसके बाद उनके बेटे विनय भगत को पार्टी टिकिट दे रही है। विनय पिछले चुनाव में भी बुरी तरह हारे थे। इसके बाद भी कांग्रेस नेताओं ने जशपुर से फिर विनय को उतार दिया।
कुनकुरी में कांग्रेस ने बीजेपी के संसदीय सचिव के खिलाफ यूडी मिंज को टिकिट दिया है। मिंज भी 2008 के चुनाव में भारी अंतर से हारे थे। जबकि, उनका प्रचार करने कांग्रेस नेता राहुल गांधी कुनकरी आए थे तथा सभा लेकर उन्हें जीताने का आग्रह किया था।
जाहिर है, ऐसे में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में निराशा तो होगी ही। क्योंकि, जशपुर जिला जूदेव राजधराने के प्रभाव में रहा है। हालांकि, दिलीप िंसंह जूदेव के देहावसान के बाद राजनीतिक वर्चस्व को लेकर राजपरिवार में द्वंद्व के संकेत मिल रहे हैं। ऐसे में, वहां कमजोर प्रत्याशियों को उतारना कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भी समझ में नहीं आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.