Home Breaking News दीपा कर्मकार का खुलासा- 2 साल बहुत बार रोई, लगने लगा था करियर हो जाएगा खत्म

दीपा कर्मकार का खुलासा- 2 साल बहुत बार रोई, लगने लगा था करियर हो जाएगा खत्म

0
0
124

दीपा कर्मकार ने 2 साल बाद कमबैक करके वर्ल्ड चैलेंज कप में गोल्ड मेडल जीता और इतिहास रच दिया. तुर्की में हुए टूर्नामेंट में गोल्डन कमबैक के बाद दीपा मंगलवार को भारत वापस लौटीं और उन्होंने ज़ी मीडिया से खास बात की. दीपा कर्मकार ने खुलासा किया कि घुटने में चोट के बाद उन्हें लगने लगा था कि वो कभी भी दोबारा नहीं खेल पाएंगी. सब बोलने लगे थे कि दीपा अब खत्म हो गई। यही सोच कर वो बहुत रोया भी करती थी लेकिन उनके कोच और फिज़ियो ने उनका साथ दिया, जिसके बाद वो दोबारा कमबैक करने में कामयाब हुई.

 

प्रोदुनोवा जंप जरूर करेंगी
तुर्की के मर्सिन शहर में हुआ वर्ल्ड चैलेंज कप दीपा का कमबैक टूर्नामेंट था. वहां दीपा ने सबको मात देकर गोल्ड मेडल हासिल किया.  यह कारनामा करने वाली दीपा देश की पहली जिम्नास्ट हैं. लेकिन जिस खतरनाक ‘प्रोदुनोवा जंप’ के लिए दीपा को दुनिया जानती है। दीपा ने वो जंप वहां नहीं की जिससे ये भी सवाल उठने लगे थे कि दीपा अब दोबारा प्रोदुनोवा करेंगी भी नहीं। इस पर दीपा का कहना है कि वो ज़रूर दोबारा प्रोदुनोवा करेंगी लेकिन उसमें समय लगेगा।

बता दें दीपा रियो ओलंपिक के बाद एंटीरियर क्रुसिएट लिगामेंट (एसीएल) चोट से जूझ रही थीं और उन्होंने इसके लिए सर्जरी कराई थी. पहले वह राष्ट्रमंडल खेलों में वापसी करने वाली थीं, लेकिन रिहैबिलिटेशन में उम्मीद से ज्यादा समय के कारण वह गोल्ड कोस्ट में भाग नहीं ले सकीं.  दीपा 2016 में रियो ओलिंपिक के वॉल्ट इवेंट में चौथे स्थान पर रही थीं. उन्हें अगस्त में इंडोनेशिया की राजधानी जर्काता में होने वाले एशियन गेम्स के लिए 10 सदस्यीय भारतीय जिम्नास्टिक टीम में भी शामिल किया गया है.

एशियन गेम्स टारगेट

दीपा के मुताबिक अब उनका अगला टारगेट एशियन गेम्स हैं. हालांकि, उसमें वो टफ कॉम्पिटिशन मानती हैं और जानती हैं कि वहां मेडल हासिल करने के लिए उनको कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी.

पीएम नरेंद्र मोदी की बधाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चोट से उबर कर दो साल बाद वापसी करने वाली भारत की स्टार महिला जिम्नास्ट दीपा कर्मकार को एफआईजी आर्टिस्टिक जिम्नास्टिक वल्र्ड चैज कप में स्वर्ण पदक जीतने पर बधाई. प्रधामंत्री मोदी ने ट्वीट किया, “भारत को दीपा कर्मकार पर गर्व है. उन्हें तुर्की के मर्सिन में हुए एफआईजी वर्ल्ड चैलेंज कप के वॉल्ट इवेंट में स्वर्ण पदक जीतने के लिए बहुत बधाई. यह जीत उनकी दृढ़ता और कभी न हार मानने वाले जज्बे की मिसाल है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.