Home Breaking News क्षेत्र में भारी बारिश संगम ऊफन रहा

क्षेत्र में भारी बारिश संगम ऊफन रहा

0
0
128

नवापारा-राजिम। क्षेत्र में पिछले 36 घंटे से रिकार्ड तोड़ बारिश होने से पैरी, सोढूर एवं महानदी सहित ईलाके के सभी छोटे बडे नाले उफान पर है। खेत-खलिहानों से पानी भरा हुआ है। बारिश का पानी कई मार्गों पर सड़क के ऊपर बहने लगा है, तो कई जगहों से संपर्क भी टूट चुका है। बारिष से जन जीवन भी प्रभावित हो गई है। त्रिवेणी संगम बीच स्थित श्रीकुलेष्वर महादेव मंदिर का चबुतरा पानी से डुबे होने की वजह से विहंगम नजर आ रहा है। पं. जवाहरलाल नेहरू पुल से नदी के लम्बे-चौड़े भाग को देखने से हर तरफ पानी ही पानी दिख रहा है। पैरी, सोढुर और महानदी की बढ़ती तेज धार के बीच भोलेनाथ कुलेश्वर महादेव मंदिर, लोमष ऋषि आश्रम सहित आसपास के क्षेत्र डूब चुके है। नदी के ऊपरी भाग में एक तरफ सिकासार जलाशय है और दूसरी ओर गंगरेल। जहां से पानी छोड़े जाने की खबर है। दोनों ही जलाशय 100 फीसदी भर चुका है। इस जलाशय में बारिश के पानी की निरंतर आवक हो रही है। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक कोई 5 हजार क्यूसेक पानी प्रत्येक घंटे गंगरेल बांध से छोड़े जाने की जानकारी मिली है। बहरहाल राजिम संगम में तीनों नदी की ऊफनती हुई तेज धार एक साथ मिलकर आगे की ओर बढ़ती जा रही है। यह दृश्य लोगों को रोमांचित कर रहा है। इस सीजन का यह दूसरा बाढ़ का विहंगम दृश्य है। जिसे देखने के लिए राजिम और नवापारा शहरवासी नदी के तट पर खड़े होकर आनंद ले रहे हैं। लगातार बारिश होने के वजह से दोनों शहर का जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। शहर का मार्केट सूना है। बसों में यात्री न के बराबर दिख रहे हैं। क्षेत्र के हर गांव की गलियां पानी की धार से लबालब है।

राजिम तहसीलदार ओपी वर्मा ने बताया कि सिकासार बांध से 50 हजार क्यूसेक एवं 12 हजार क्यूसेक सोढूर बांध से पानी लगातार छोड़ा जा रहा है। क्षेत्र के सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्र कुरूसकेरा एवं सुरसाबांधा सहित अंचल में मुनादी कर दी गई है। प्रषासन पुरी तरह से बाढ़ से निपटने के लिए तैयारी कर ली है। इधर नवापारा थानेदार रमेष मरकाम ने बताया कि गंगरेल बांध से 50 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। उन्होंने बताया कि नवापारा के सबसे ज्यादा बाढ़ प्रभावित क्षेत्र देवार पारा, सोमवारी बाजार के निचले हिस्सा, राम जानकी पारा के निचले हिस्सा, सब्जी मंडी सहित नदी के तटवर्ती क्षेत्र में हाई एलर्ट जारी कर दी गई है। बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थान पर ठहराया गया है। पुलिस पेट्रोलिंग लगातार प्रभावित क्षेत्रों में नजर रखी हुई है। मौसम विभाग के अनुसार 24 घंटे भारी बारिष की चेतावनी मिली है, जिसे देखते हुए प्रषासन एलर्ट है। बारिष लगातार हो रही है। नदी का जलस्तर भी लगातार बढ़ रहा है। समाचार भेजे जाने तक निचली बस्तियों के रहने वाले लोग घरों के समान को निकालते हुए दिखे।

नवापारा पगर के निचले हिस्सा वार्ड नं 5,15,17,19 के पुराना बस स्टैण्ड, सोमवारी बाजार ,धान मण्डी के पीछे धरो पर बाढ का पानी धुसने से सैकड़ो परिवार प्रभावित हुए,। महानदी के बढ़ते जलस्तर को देखते हुए निचले बस्ती वाले सुबह से ही धरो को खाली करने लगे थे परंतुु महानदी के बढ़ते जलस्तर के चलते कई लोग धर खाली नही कर सके।वही बाढ़ से प्रभावित लोग सोमवारी बाजार सब्जी पसरा, धान मण्डी, सदर बाजार सहित सुरक्षित स्थानो पर शरण लिये हुए है।़़़़वही बिजली विभाग द्वारा निचले इलाको पर जहॉ बाढ़ का पानी भर रहा था वहा बिजली व्यवस्था पुरी तरह से ढप् कर दिया जिससे लोगो को धर खाली करने पर दिक्कतो का सामना करना पड़ा साथ ही बाढ़ के पानी पर बह कर आये सरीसृपो का भी भय बना रहा , जब बिजली गुल के विषय पर बिजली विभाग पर फोन किया गया तो फोन रिसीव ही नही किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.