Home Breaking News कुनकुनी आंदोलन : प्रशासन और आंदोलनकारियों के बीच हुई चर्चा

कुनकुनी आंदोलन : प्रशासन और आंदोलनकारियों के बीच हुई चर्चा

0
0
197

 

ओपी चौधरी एवं डॉक्टर श्रीवानी बने महत्वपूर्ण कड़ी

खरसिया। 176 दिनों से क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठे कुनकुनी के आदिवासियों एवं प्रशासन के बीच मंगलवार को विशेष चर्चा हुई। वहीं आंदोलनकारियों एवं प्रशासन के बीच वार्ता को सफल मोड़ पर लाने के लिए ओपी चौधरी एवं डॉ.श्रवण श्रीवानी की महत्वपूर्ण भूमिका रही। प्रशासन द्वारा आदिवासियों के हित में न्यायसंगत निराकरण यथाशीघ्र करने हेतु लिखित आश्वासन प्राप्त होने के बाद एक-दो दिनों में यह धरना आंदोलन स्थगित किए जाने के संकेत प्राप्त हो रहे हैं।

मूलनिवासी संघर्ष समिति के प्रमुख हेमसिंह राठिया ने बताया कि नायब तहसीलदार निखिल पटेल द्वारा प्रभावित कृषकों से वार्ता कर आला अधिकारियों को अनियमितताओं की जानकारी दी। वहीं आंदोलनकारियों की मांग पर उचित मुआवजे के बगैर हो रहे निर्माण कार्य को कलेक्टर के आदेश से तत्काल स्थगित कर देने की कार्रवाई प्रारंभ की गई। कलेक्टर के प्रतिनिधि के रूप में पहुंचे नायब तहसीलदार द्वारा गांव में कैंप लगाकर प्रत्येक व्यक्ति की परेशानियों को सुनकर उनका तत्काल समाधान करने की बातें कहीं गई, जिस पर सहमति जताते हुए मूलनिवासी संघर्ष समिति के द्वारा लिखित आश्वासन प्राप्त होने के उपरांत जनवरी तक धरना आंदोलन स्थगित करने की बातें कहीं जा रही हैं।

चौधरी ने आदिवासियों के दर्द को समझा

सामाजिक कार्यकर्ता भूपेंद्रकिशोर वैष्णव ने कहा कि ओपी चौधरी ने जिस तरह आंदोलन की राह अख्तियार किए हुए शिक्षाकर्मियों को सफलता की सौगात दिलवाई है, उसी तर्ज पर विधानसभा के 70000 आदिवासियों के दर्द को जानने के लिए आज वे 176 दिनों से आंदोलन पर बैठे आदिवासियों के बीच पहुंचे। आदिवासियों की जायज मांग को प्रशासन तक पहुंचाने के लिए महत्वपूर्ण कड़ी बनकर चौधरी ने यह विश्वास दिलाया कि उनके साथ किसी प्रकार का अन्याय नहीं होगा। ऐसे में सभी प्रभावित कृषकों सहित संपूर्ण आदिवासी समाज में हर्ष की लहर व्याप्त हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.