Home Breaking News राजनांदगांव : नक्सल प्रभावित बूथों के लिए बन रहे तीन गुप्त रास्ते, इन्हीं में से एक रास्ते से बूथ पहुंचेगा मतदान दल

राजनांदगांव : नक्सल प्रभावित बूथों के लिए बन रहे तीन गुप्त रास्ते, इन्हीं में से एक रास्ते से बूथ पहुंचेगा मतदान दल

0
0
60

12 नवंबर को पहले चरण में होने वाले विधानसभा चुनाव में नक्सल प्रभावित बूथों तक मतदान दलों को सुरक्षित पहुंचाने पुलिस तीन अलग-अलग रास्ते बना रही है, जिनमें से किसी एक रास्ते से होकर मतदान दल को प्रभावित बूथों तक पहुंचाया जाएगा। यही नहीं मतदान दलों की वापसी भी इन्हीं में से किसी एक सीके्रेट रास्ते से ही होगी। नक्सलियों के लगातार मूमेंट को लेकर पुलिस ने रास्तों को ओपन नहीं किया है। वोटिंग से एक दिन पहले ही मतदान दल व सुरक्षा जवानों को गुप्त रास्ते के बारे में बताया जाएगा। पुलिस बूथ और मतदान दल की सुरक्षा के लिए संवेदनशील इलाकों में एक्स्ट्रा फोर्स भी तैनात कर दिये हैं। रात में भी मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र पुलिस की मदद से ज्वाइंट आपेरशन चलाकर यहां सर्चिंग करायी जा रही है, ताकि नक्सली संवेदनशील क्षेत्रों में किसी तरह की कोई प्लानिंग न कर सकें।

एसपी कर चुके निरीक्षण

जिले के नक्सल प्रभावित मतदान केंद्रों की सुरक्षा को लेकर एक्स्ट्रा फोर्स की तैनाती कर दी गई है। पिछले दिनों पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप संवेदनशील केंद्रों का निरीक्षण करने भी पहुंचे थे। एसपी ने साल्हेवारा व बकरकट्टा क्षेत्र के अतिसंवेदनशील केंद्र भोथली, बगारटोला व अन्य बूथों की भौगोलिक स्थिति की जानकारी ली। जवानों को भी उन्होंने सर्चिंग अभियान तेज करने के निर्देश दिये है।

प्रशासन के लिए भी चुनौती

जिले में कुल 1505 मतदान केंद्र हैं। इनमें से करीब 125 केंद्र ऐसे हैं, जहां कोई कनेक्टिविटी नहीं है। इन केंद्रों में ना ही मोबाइल का नेटवर्क है और न कोई किसी तरह की कोई सुविधा। पहुंच मार्ग भी बदहाल है। ऐसे में यहां तक मतदान दल के अफसरों को पहुंचाना व कनेक्टिविटी की व्यवस्था करना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती हो सकती है। हालांकि दूरस्थ इन केंद्रों तक पहुंचने के लिए प्रशासन ने ऐसी गाड़ी की व्यवस्था बनाई है, जो वहां तक पहुंच सकें।

रात में भी ज्वाइंट ऑपरेशन

नक्सल प्रभावित इलाकों में सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस यहां रात में भी ज्वाइंट ऑपरेशन चला रही है। सुरक्षा कंपनी के जवान भी रात में सर्चिंग कर नजर रखे हुए हैं। रात में जंगल एरिया की सर्चिंग पहली दफा हो रहा है। ऐसा इसलिए क्यों कि पखवाड़ेभर में नक्सली दो बार दहशत फैलाने का काम कर चुके हैं। बीते छह अक्टूबर को नक्सलियों ने मानपुर के कोहका व मदनवाड़ा क्षेत्र के कई गांवों में चुनाव बहिष्कार को लेकर बैनर-पोस्टर चस्पा किया था। वहीं गांव के मंचों पर दीवार लेखन कर ग्रामीणों को हिदायत दी थी। इसी तरह 16 अक्टूबर को नक्सलियों ने राजाडेरा-रामगढ़ जंगल में सर्चिंग पार्टी के ऊपर आइइडी बम ब्लास्ट किया था, जिसमें तीन जवान घायल भी हुए थे। इन्हीं कारणों से पुलिस ने विधानसभा चुनाव को देखते हुए इस बार सुरक्षा बढ़ा दी है।

‘प्रभावित इलाकों में लगातार सर्चिंग करा रहे हैं। नक्सलियों का कहीं कोई मूमेंट वर्तमान में नहीं है। चुनाव को देखते हुए एक्स्ट्रा जवानों को भी तैनात कराया गया है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.