Home Breaking News Padmaavat: संजय लीला भंसाली ने किया उल्टा वार, करणी सेना को फिल्म देखने के लिए किया इनवाइट

Padmaavat: संजय लीला भंसाली ने किया उल्टा वार, करणी सेना को फिल्म देखने के लिए किया इनवाइट

0
0
236

‘पद्मावत’ की रिलीज पर संकट, मध्‍यप्रदेश और राजस्‍थान सरकार SC में दाखिल करेंगी पुनर्विचार याचिका

फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली ने कल्वी को भेजे पत्र में कहा है कि राजपूत संगठन मुख्य मुद्दे से भटक गए हैं. पत्र में भंसाली ने लिखा है, फिल्म में रानी पद्मावती के सम्मान और गरिमा को बरकरार रखा गया है. सपने वाला बहुचर्चित दृष्य मात्र एक अफवाह है जिसका उल्लेख पिछले वर्ष 29 जनवरी को भेजे पत्र में भी किया गया था. ऐसा कोई दृष्य नहीं है. हम आपको भरोसा दिलाते हैं कि फिल्म देखने के बाद राजपूत समाज गर्व महसूस करेगा.

Padmaavat: ‘घूमर’ गाने में हुआ ऐसा चेंज कि हो गया Viral, ट्विटर पर लोग उड़ा रहे मजाक

कल्वी ने फिल्म के बार में बताते हुए कहा, हमने उनसे कभी फिल्म दिखाने के लिए नहीं कहा. हमने उनसे नौ इतिहासकारों को वह फिल्म दिखाने के लिए कहा और उन्होंने मात्र तीन लोगों को दिखाई. इसके अलावा उन्होंने उन तीन इतिहासकारों की सलाह पर भी विचार नहीं किया.

उनके विचारों को नजरंदाज करके फिल्म रिलीज की तिथि निश्चित करने से इतिहासकारों का अपमान किया गया है. अब इसका एकमात्र समाधान फिल्म को प्रतिबंधित करना ही है. ‘पद्मावत’ में रानी पद्मावती का किरदार दीपिका पादुकोण, महारावल रतन सिंह का किरदार शाहिद कपूर और अलाउद्दीन खिलजी का किरदार रनवीर सिंह निभा रहे हैं.

करणी सेना ने प्रसून जोशी को बुरी तरह पीटने की दी धमकी, कहा- ‘वही हाल करेंगे जो भंसाली के साथ…’

जयपुर में फिल्म के सेट पर मारपीट से लेकर कोल्हापुर में सेट पर तोड़-फोड़ करने के बाद फिल्म निर्देशक भंसाली को राजपूत संगठनों के गुस्से का शिकार होना पड़ा था. महीनों तक विरोध का सामना करने के बाद फिल्म निर्माताओं ने यह स्पष्ट किया कि यह फिल्म सोलहवीं सदी के सूफी गायक मलिक मोहम्मद जायसी के एतिहासिक गीत ‘पद्मावत’ पर आधारित है.

इसकी ऐतिहासिकता से कोई छेड़खानी नहीं की गई है. फिल्म निर्माताओं ने फिल्म में पांच संशोधन करने के बाद इसका यू/ए प्रमाण पत्र कायम रखते हुए 25 जनवरी को इसे रिलीज करने का फैसला किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.