Home Breaking News पॉम्पलेट चिपका कर पुलिस को दे रहे थे चकमा, चार आरोपी गिरफ्तार

पॉम्पलेट चिपका कर पुलिस को दे रहे थे चकमा, चार आरोपी गिरफ्तार

0
0
132

बिलासपुर: ओडिशा के गांजा तस्करों ने पुलिस को चकमा देने इस बार नया तरीका अपनाया। उन्होंने अपनी कार के सामने शादी का पॉम्पलेट चिपका लिया था, ताकि पुलिस तलाशी भी न ले सके। लेकिन, तोरवा पुलिस व क्राइम ब्रांच ने पुख्ता सूचना पर नाकेबंदी कर कार को रोक लिया और 4 तस्करों को पकड़ लिया। कार से 1 क्विंटल गांजा भी बरामद किया गया। आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी शनिवार की सुबह ओडिशा पासिंग की कार में गांजे की तस्करी हो रही है। खबर मिलते ही तोरवा पुलिस के साथ नाकेबंदी शुरू कर दी गई। लालखदान-महमंद के पास वाहनों की जांच के दौरान टीम ने ओडिशा पासिंग की कार को देख लिया और रोक कर पूछताछ शुरू कर दी। कार के सामने शादी का पॉम्पलेट लगा हुआ था। लिहाजा, उसमें सवार युवक पुलिस को चकमा देकर गुमराह करने की कोशिश करने लगे। लेकिन, पुलिस को पुख्ता सूचना मिली थी। इस बीच उन्होंने कार की तलाशी लेनी शुरू कर दी। एडिशनल एसपी सिटी नीरज चंद्राकर ने बताया कि हुंडई कंपनी की एसेंट कार क्रमांक ओडी 15 जी 5772 की डिक्की में अलग-अलग पैकेट्स में गांजे का जखीरा मिला। लिहाजा, पुलिस की टीम उन्हें पकड़कर थाने ले गई। तौलाई कराने पर सौ किलो गांजा निकला। पुलिस ने आरोपियों को पकड़कर पूछताछ की, तब पता चला कि सभी ओडिशा के रहने वाले हैं। गांजे की सप्लाई छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती क्षेत्रों के साथ ही मध्यप्रदेश में करने की जानकारी दी। पुलिस ने 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत अपराध दर्ज किया गया है। इस कार्रवाई में टीआई परिवेश तिवारी के साथ ही क्राइम ब्रांच के एएसआई हेमंत आदित्य, आरक्षक सरफराज खान, बलवीर सिंह, राकेश तिवारी और विकास यादव समेत अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे।

लंबे सफर के लिए रखे थे दो ड्राइवर

पुलिस की पूछताछ में पता चला कि गांजा तस्कर आरोपी मध्यप्रदेश के साथ ही उत्तरप्रदेश में भी तस्करी करते हैं। ओडिशा से सड़क मार्ग से जाने का उनका यही रास्ता है। लिहाजा, लंबा सफर तय करने व बीच में रुकना न पड़े इसलिए तस्करों ने दो ड्राइवर रखे थे। दोनों चालक बदल-बदलकर कार चला रहे थे।

पकड़े गए तस्कर व चालक

– हुर्रिकेस दंता पिता दामोदर दंता (23) निवासी- मोनोमुंडा-दुपला, जिला- बौध

– सुशंतो साहू पिता फिरोंजी साहू (20) निवासी रामकृष्ण नगर, जिला- सोनपुर

– अनिल बेहरा पिता सुरो (19) निवासी मोनोकुंडा-इंकाटिंगा, जिला- बौध

– जीवन कुमार साहू पिता गोपाल साहू (19) निवासी- माझीपुड़ा, जिला- सोनपुर

पहुंचाकर देने पर बढ़ जाती है कीमत

पुलिस के अनुसार तस्करों ने गांजे की अलग-अलग कीमत तय की है। ओडिशा में इसकी कीमत कम है। लिहाजा, छत्तीसगढ़ के साथ ही मध्यप्रदेश व उत्तरप्रदेश के कई तस्कर ओडिशा से खुद गांजा लेकर आते हैं। वहीं ओडिशा के स्थानीय तस्कर भी हैं, जो गांजा पहुंचाकर देने पर मोटी कीमत वसूल करते हैं। यह तरीका दूसरे राज्यों के तस्करों के लिए आसान रहता है। क्योंकि उन्हें रास्ते में पकड़े जाने का डर नहीं रहता। यही वजह है कि ओडिशा के तस्कर खतरा मोल लेकर उनके ठिकाने तक गांजे की सप्लाई करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.