Home Breaking News उपसभापति चुनाव: मोदी-शाह के दांव के आगे धरा रह गया कांग्रेस का गुणा-गणित!

उपसभापति चुनाव: मोदी-शाह के दांव के आगे धरा रह गया कांग्रेस का गुणा-गणित!

0
0
98

राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव में एनडीए के हरिवंश जीत गए हैं. उनके सामने कांग्रेस के वीके हरिप्रसाद मैदान में थे लेकिन उनकी हार हुई. राज्यसभा में हमेशा दमदार स्थिति में रही कांग्रेस का गेम कैसे बिगड़ा. जानिए,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह सहित जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने एनडीए के सहयोगी दलों को साधकर साथ में रखने के साथ-साथ विपक्ष के कई दलों का समर्थन हासिल किया. हरिवंश को एनडीए से बाहर के दलों ने भी अपना समर्थन देने की घोषणा की.

एनडीए राज्यसभा में जादुई आंकड़े से कम थी. इस चुनाव में बीजेडी के 9 सांसद किंगमेकर की भूमिका में थे. राज्यसभा के उपसभापति के चुनाव की घोषणा के बाद पीएम मोदी और जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नवीन पटनायक से फोन पर बात कर एनडीए के उम्मीदवार हरिवंश के लिए समर्थन मांगा. यहीं से कांग्रेस का गेम खराब हो गया.

पीएम मोदी और नीतीश कुमार ने नवीन पटनायक से फोन पर बात करके समर्थन के लिए बात की तब तक विपक्ष अपना उम्मीदवार तय ही नहीं कर पाया था. इसका नतीजा हुआ कि एनडीए विपक्ष में सेंध लगाने में कामयाब हो गया.

वहीं, समाजवादी पार्टी का कहना है कि अगर आम राय बनती तो बेहतर होता. दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी ने कहा कि नीतीश कुमार ने अरविंद केजरीवाल को फोन करके एनडीए उम्मीदवार हरिवंश के लिए समर्थन मांगा, लेकिन बीजेपी के साथ होने के चलते आम आदमी पार्टी समर्थन नहीं कर सकती. कांग्रेस को समर्थन चाहिए तो राहुल गांधी अरविंद केजरीवाल से बात करें. लेकिन राहुल के बात न करने की वजह से अब वोटिंग से बाहर रहने का का फैसला किया.

बता दें कि हाल ही में सेवानिवृत्त हुए उपसभापति पी. जे. कुरियन का कार्यकाल पिछले महीने यानी जुलाई में समाप्त हो गया था. 245 सदस्यीय राज्यसभा में इस समय 244 सदस्य हैं जबकि 1 सीट खाली है. मौजूदा 244 सदस्यीय उच्च सदन में उपसभापति चुनाव को जीतने के लिए 123 मतों की जरूरत थी.

विपक्ष के मोदी सरकार के खिलाफ लाए अविश्वास प्रस्ताव के वोटिंग के दौरान शिवसेना गैरहाजिर रहकर पीएम मोदी और अमित शाह को झटका दिया था. अविश्वास प्रस्ताव की ही बात करें तो उसमें एआईएडीएमके के समर्थन से एनडीए को 330 वोट मिले थे जबकि विपक्ष को 135 वोट मिले थे, जो विपक्ष की उम्मीद से काफ़ी कम थे.

राज्यसभा में उपसभापति के चुनाव की घोषणा के साथ ही सोमवार को पब्लिक अकाउंट समिति (PAC)  के लिए राज्यसभा से सदस्यों के चुनाव में विपक्ष की रणनीति ने सरकार को चौंका दिया था. इसमें कांग्रेस के समर्थन से टीडीपी के सीएम रमेश को सबसे ज्यादा 110 वोट मिले थे. जबकि वहीं बीजेपी के सांसद भूपेन्द्र यादव को 69 वोट मिले और जेडीयू सांसद और वर्तमान में एनडीए के उपसभापति पद के उम्मीदवार हरिवंश को सिर्फ 26 वोट मिले थे और हरिवंश को हार का सामना करना पड़ा था.

सरकार की कोशिश रही कि उपसभापति चुनाव में विपक्ष में फूट खुलकर सामने आई. इस जीत से बीजेपी का उत्साह बढ़ेगा. इसे बीजेपी एक बड़ा मुद्दा बना सकती है कि विपक्षी पार्टियां उपसभापति के नाम पर एक नहीं हुईं वे प्रधानमंत्री के नाम पर एक कैसे होंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.