Home Breaking News ताम्रध्वज के आने से गड़बड़ाया जागेश्श्वर का समीकरण

ताम्रध्वज के आने से गड़बड़ाया जागेश्श्वर का समीकरण

0
0
54

भिलाई। नामांकन दाखिले की आखिरी तारीख से एक दिन पहले काँग्रेस ने दुर्ग जिले की चुनावी राजनीति में खलबली सी मचा दी। दुर्ग ग्रामीण सीट पर प्रतिमा चन्द्राकर की टिकट काटकर सांसद ताम्रध्वज साहू को काँगे्रस प्रत्याशी घोषित किये जाने से भाजपा प्रत्याशी जागेश्वर साहू का समीकरण गड़बड़ा सा गया है। वहीं टिकट को लेकर पल-पल बदलती खबरों की बीच पूर्व मंत्री बद्रूद्दीन कुरैशी को वैशाली नगर से काँग्रेस ने प्रत्याशी घोषित कर दिया है।
दुर्ग जिले की चुनावी राजनीति में गुरूवार को खासा उथल पुथल मचा रहा। वैशाली नगर से काँग्रेस प्रत्याशी की घोषणा पर सभी की निगाहें टिकी रही। सुबह से ही काँग्रेस के अलग-अलग खेमें में कभी खुशी तो कभी गम का माहौल बना रहा। अंतत: पार्टी ने इस सीट पर पूर्व मंत्री बद्रूद्दीन कुरैशी को प्रत्याशी अधिकृत कर दिया। इसके साथ ही जिला काँगे्रस अध्यक्ष तुलसी साहू के नाम पर सहमति हो जाने की उड़ती खबरों पर विराम लग गया।
काँग्रेस ने दूसरा चौकाने वाला निर्णय दुर्ग ग्रामीण सीट पर लिया। यहाँ प्रतिमा चन्द्राकर को पहले ही प्रत्याशी घोषित किया जा चुका था। उन्होंने अपना नामांकन भी जमा करा दिया था। लेकिन पार्टी ने अचानक सांसद ताम्रध्वज साहू को दुर्ग ग्रामीण से चुनाव लड़ाने का ऐलान कर दिया। काँग्रेस के इस दाँव से भाजपा के जागेश्वर साहू का समीकरण गड़बड़ा गया है।

दरअसल, दुर्ग ग्रामीण में साहू समाज की बहुलता को देखते हुए भाजपा ने जागेश्वर साहू को उनकी हाल फिलहाल राजनीतिक सक्रियता नहंीं होने के बावजूद प्रत्याशी घोषित किया है। दूसरी तरफ काँगे्रस ने पिछली दफे पराजित प्रतिमा चन्द्राकर को फिर से मौका दिया था। इस बीच काँग्रेस से किसी साहू को जिले में प्रत्याशी नहीं बनाये जाने को लेकर भी नकारात्मक चर्चा होती रही।
बताया जाता है कि, जिले की छह में से पाँच विधानसभा में प्रत्याशी घोषित हो जाने की स्थिति में र्काँग्रेस की ओर से वैशाली नगर से साहू के साथ ही मुस्लिम प्रत्याशी के विकल्प पर गहरा मंथन चला। इसके लिए तुलसी साहू के साथ ही बद्रूद्दीन कुरैशी का नाम तेजी से उभरने लगा था लेकिन दोनों में से किसी एक को टिकट मिलने की चर्चा के बीच बद्रूद्दीन कुरैशी दिल्ली में डटे रहे। कुरैशी आज ही सुबह दिल्ली से भिलाई लौटे। वहीं दोपहर को उनके समर्थकों ने प्रदेश काँगे्रस अध्यक्ष भूपेश बघेल के मानसरोवर कॉलोनी भिलाई 3 निवास में पहुँचे और कुरैशी के समर्थन में नारेबाजी की।

खबर यह भी है कि, आज सुबह नेता प्रतिपक्ष टी.एस.सिंहदेव ने तुलसी साहू को नामांकन की तैयारी पूरी करने का संदेश दिया। जिसके बाद तुलसी साहू ने चुनाव के लिए नया बैंक खात खोलने के बाद दुर्ग कलेक्टोरेट में वरिष्ठ अधिवक्ता भंवरलाल जैन से नामांकन भरवा रही थी। इसी दौरान उन्हें बद्रूद्दीन कुरैशी को टिकट मिल जाने की जानकारी मिल गई। वैशाली नगर से कुरैशी की टिकट तय होते ही साहू समाज को प्रतिनिधित्व देने के इरादे से दुर्ग ग्रामीण का प्रत्याशी बदलकर ताम्रध्वज साहू को उतारे जाने की चर्चा सुर्खियों पर है।

गौरतलब रहे कि, दुर्ग ग्रामीण से भाजपा के घोषित प्रत्याशी जागेश्वर साहू अविभाजित मध्य प्रदेश में काँग्रेस सरकार के दौरान धमधा विधानसभा से प्रतिनिधित्व करते हुए दिग्विजय सिंह मंत्री मंडल में शामिल थे। उन्होंने धमधा से काँग्रेस की टिकट पर लगातार दो चुनाव जीता था। तीसरी बार वर्ष 1998 में उनकी टिकट काटकर काँग्रेस ने ताम्रध्वज साहू को प्रत्याशी बनाया और वे जीत दर्ज करने में सफल रहे। इससे पहले काँग्रेस में रहते जागेश्वर साहू ने ताराचंद साहू के खिलाफ लोकसभा चुनाव भी लड़ा था। जिसमें मंत्री रहते हुए उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा था। भाजपा में आने के बाद जागेश्वर को 2009 में वैशाली नगर विधानसभा के उपचुनाव में टिकट दी गई थी जिसमें भजन सिंह निरंकारी के हाथों उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा था।

वैशाली नगर में भाजपा के विद्यारतन भसीन और काँग्रेस प्रत्याशी घोषित किये गये बद्रूद्दीन कुरैशी के बीच वर्ष 2005 में नगर निगम भिलाई के दूसरे चुनाव में महापौर पद के लिए मुकाबला हो चुका है। उस चुनाव में काँग्रेस से बागी होकर चुनाव लड़े बृजमोहन सिंह की दमदार उपस्थिति से बने त्रिकोणी संघर्ष में भाजपा की टिकट पर विद्यारतन भसीन महापौर बनने में सफल रहे थे अब एक बार फिर विधानसभा चुनाव में विद्यारतन भसीन और बद्रूद्दीन कुरैशी के बीच वैशाली नगर में रोचक मुकाबला का आसार नजर आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.