Home Breaking News हाथियों के उत्पात से तंग आकर ग्रामीणों ने सरकार से की मौत की मांग

हाथियों के उत्पात से तंग आकर ग्रामीणों ने सरकार से की मौत की मांग

0
0
50

सरगुजा : जिले में हाथियों का आतंक लगातार जारी है. इसी क्रम में ग्रामीण अब हाथियों के उत्पात से तंग आकर सरकार से मौत की कामना कर रहे हैं. ग्रामीणों का कहना है कि सरकार या तो हाथियों को मार दे या हम लोगों को मार दे. दरअसल, बीती रात उदयपुर क्षेत्र के घाटबर्रा में हाथियों ने तीन लोगों को दौड़ा दौड़ाकर मार डाला. इसके पीछे वजह एक प्राइवेट कोल कंपनी द्वारा जंगलों को कटाई और वन विभाग द्वारा संसाधन न उपलब्ध कराया जाना बाताया जा रहा है.

वहीं ग्रामीणों का कहना है कि सरगुजा में हाथियों के आतंक से निपटने में वन विभाग के प्रयासों का कोई असर होता नहीं दिख रहा है. ग्रामीण इन हाथियों के आतंक से इतने ज्यादा परेशान हैं कि सरकार से अब यह कहने लगे हैं कि या तो वे हाथियों को मार दें या फिर ग्रामीणों को मौत दे दें.

उदयपुर क्षेत्र के घाटबर्रा गांव के सरपंच अमरेश प्रसाद का कहना है कि प्राइवेट कोल कंपनी द्वारा सरगुजा जिले के उदयपुर क्षेत्र में खदान खोलने के लिए जंगलों को काटा गया है. जिस घाटबर्रा गांव में यह घटना हुई है उस गांव को कोल कंपनी ने गोद ले रखा है. इधर, ग्रामीणों का मानना है कि हाथियों के लिए जंगल नहीं है इसलिए वो गांव में घुसकर निर्दोष लोगों पर हमला कर रहे हैं.

इसी क्रम में बीती रात हाथियों ने एक दंपति सुकुल राम और पत्नी सुंदरी समेत गांव की एक अन्य महिला कौशल्या को बुरी तरह दौड़ा दौड़ाकर मार डाला है. घटना के बाद ग्रामीणों का आरोप यह भी है कि अगर वन विभाग द्वारा हाथियों से बचने के लिए गांव में पर्याप्त संसाधन दिए गए होते, तो शायद यह हादसा नहीं होता. हालांकि इलाके के रेंजर ने इस बात को स्वीकारते हुए हाथियों से बचने के लिए संसाधनों का नाकाफी होना बताया है.

बहरहाल, घटने के अगले दिन मौके पर पहुंचा वन और प्रशासनिक अमला ने मृतकों के परिजनों को तात्कालिक सहायता राशि 25-25 हजार रुपए दी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.