Home Breaking News अपने ही शहर के लड़के की गेंद पर आउट हो गया वर्ल्ड कप हीरो, ये है दोनों की Family

अपने ही शहर के लड़के की गेंद पर आउट हो गया वर्ल्ड कप हीरो, ये है दोनों की Family

0
0
159

मोहाली।अंडर-19 वर्ल्ड कप 2018 का फाइनल मैच टीम इंडिया ने जीत लिया है। माउंट माउंगानुई के बे ओवल ग्राउंड पर खेले जा रहे फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बैटिंग करते हुए भारत को 217 रन का टारगेट दिया था। पूरे टूर्नामेंट में भारत की जीत के हीरो रहे शुभमन गिल फाइनल में 31 रन ही बना सके। उनको किसी और ने नहीं बल्कि मोहाली के ही लड़के ने आउट किया है। जी हां, शुभमन को ऑस्ट्रेलिया प्लेयर परम उप्पल ने आउट किया। दोनों ही मोहाली के हैं। पढ़िए दोनों प्लेयर की कहानी…

ऐसे परम उप्पल पहुंचा ऑस्ट्रेलिया तक
– मोहाली में रह रहे परम के चाचा भूपेंद्र सिंह उप्पल ने बताया कि पंजाब के मोहाली में रहने वाले परम के पिता दविंद्र सिंह उप्पल 2003 में ऑस्ट्रेलिया गए थे।
– इससे पहले वे पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में वकालत करते थे। यहां पर कई सालों की प्रैक्टिस के बाद सिडनी पहुंचे।
– यहां उन्होंने रेल्वेज ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट में काम किया। वहीं उनकी पत्नी जसप्रीत कौर ने सिडनी में टीचिंग कोर्स पूरा किया और वे अब मूरफील्ड हाई स्कूल में टीचर हैं।
– परम भी अपने माता-पिता के साथ सिडनी गया तब वह तीन साल का था। सिडनी में परम ने क्रिकेट खेलना सीखा।
– परम कुछ समय पहले ही नेशनल लेवल पर शानदार प्रदर्शन करने के बाद न्यू साउथ वेल्स ब्लू और सिडनी थंडर टीम के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था। परम का इस साल डोमेस्टिक सीजन काफी अच्छा रहा था और इसी के आधार पर उन्हें टीम में शामिल किया गया।

ये है शुभमन गिल की कहानी
– 8 सितंबर 1999 को फाजिल्का के गांव जैमल सिंगवाला के छोटे से गांव में जन्मे शुभमन के पिता जमींदार थे।
– उनके पिता लखविंदर सिंह को भी क्रिकेट में काफी इंटरेस्ट था पर गांव में क्रिकेट के लिए कोई भी सुविधा नहीं थी। सिर्फ शुभमन के लिए उनका परिवार मोहाली में आकर बस गया।
– शुभमन के पिता लखविंदर गिल ने बताया कि उनके बेटे ने तीन साल की उम्र में ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था।
– जब उसके तकिए के पास जब तक बैट न रखो, उसे नींद नहीं आती थी। छोटी उम्र में बच्चे खिलौने मांगते थे, लेकिन हमें उसे बैट-बॉल दिलाना पड़ता था।
– यहां उन्होंने शुभमन को पीसीए में ट्रेनिंग दिलवानी शुरू कर दी। इसके बाद शुभमन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।
– जिम्बाब्वे के खिलाफ शुभमन ने 59 गेंदों में 90 रनों की पारी खेली, जिसमें उन्होंने 14 चौके और एक छक्का लगाया। शुभमन की इस पारी की बदौलत भारत यह मैच 10 विकेट से जीत गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.