Home Breaking News उप्र के कासगंज में तीसरे दिन भी नहीं थमी हिंसा, दुकानों में आगजनी और लूटपाट

उप्र के कासगंज में तीसरे दिन भी नहीं थमी हिंसा, दुकानों में आगजनी और लूटपाट

0
0
151
third-day-in-upazila-kasganj-there-was-no-violence-fire-in-shops

कासगंज. उत्तर प्रदेश के कासगंज में गणतंत्र दिवस के दिन शुरू हुआ हिंसा का दौर तीसरे दिन भी जारी रहा. रविवार सुबह भी उपद्रवियों का तांडव जारी रहा. दुकानों में तोड़फोड़, लूटपाट और आगजनी की गयी. कासगंज में कर्फ्यू, पीएसी और पुलिस के जवानों की तैनाती के बावजूद हिंसा की घटनाएं जारी हैं. एटा के जिलाधिकारी आरपी सिंह ने कहा है कि इस सबके पीछे साजिश हो सकती है. साथ ही उन्होंने जोड़ा कि इसके बारे में उन्हें कुछ मालूम नहीं.

एटा के डीएम ने बताया कि अब तक हिंसा फैलाने के आरोप में नामजद 9 लोगों सहित कुल 50 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इन सबके पीछे कुछ लोग हैं, जिनकी पहचान कर ली गयी है. उन्होंने बताया कि रविवार को हुई हिंसा की किसी घटना में कोई घायल नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि ड्रोन से क्षेत्र की निगरानी की जा रही है.

भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती और कर्फ्यू के बावजूद उपद्रवियों ने शनिवार को शहर में तांडव मचाया. तीन दुकानों, दो निजी बसों और एक कार को आग लगा दी. हिंसा की घटनाएं नगर के मुख्य बाजार घंटाघर, सहावर गेट और बिलराम गेट पर हुईं. बिलराम गेट पर रुक-रुक कर फायरिंग भी होती रही. प्रशासन ने 28 जनवरी की रात 10 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दीं, ताकि सोशल मीडिया के जरिये फैलने वाली अफवाहों को रोका जा सके.

हिंसा के कारण हुई क्षति के बारे में अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने बताया कि तीन दुकानों में तोड़फोड़ की गयी है. उनके शटर के नीचे पेट्रोल डालकर आग लगा दी गयी. दो निजी बसों में भी पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी गयी है. एक खाली पड़े मकान को असामाजिक तत्वों ने फूंक दिया. शाम को उपद्रवियों ने एक खाली खड़ी कार को भी आग लगा दी. उन्होंने दावा किया कि शनिवार को कोई हिंसा नहीं हुई. हिंसक घटना केवल शुक्रवार को ही हुई थी. शुक्रवार को कुछ असामाजिक तत्वों ने एक मस्जिद के गेट को तोड़ने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया.

इस बीच, जिलाधिकारी आरपी सिंह ने कहा कि हिंसा प्रभावित क्षेत्र में इंटरनेट सेवाएं 28 जनवरी रात 10 बजे तक बंद कर दी गयी हैं. प्रमुख सचिव (गृह) अरविंद कुमार ने कहा कि शुक्रवार को दो मामले दर्ज किये गये थे. दो मामलों में नौ गिरफ्तारियां की गयीं. 40 और लोगों को एहतियातन गिरफ्तार किया गया. आगरा जोन के अपर पुलिस महानिदेशक, अलीगढ़ के मंडलायुक्त, अलीगढ़ रेंज के पुलिस महानिरीक्षक शुक्रवार से ही मौके पर हैं. पुलिस महानिरीक्षक स्तर के अधिकारी डीके ठाकुर को लखनऊ से कासगंज भेजा गया है. वह भी वहां मौजूद हैं. कुमार ने बताया कि पीएसी की पांच कंपनियां और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की एक कंपनी कासगंज में तैनात है. जोन से अतिरिक्त सिविल पुलिस अधिकारी एवं अन्य पुलिसकर्मी भी पहुंच गये हैं. आरएएफ की एक और कंपनी मौके पर भेज दी गयी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.