Home Breaking News प्रेमप्रकाश पाण्डेय की अधिकारियों से दो टूक- हितग्राहियों तक योजना पहुँचाने के साथ बताएं लाभ

प्रेमप्रकाश पाण्डेय की अधिकारियों से दो टूक- हितग्राहियों तक योजना पहुँचाने के साथ बताएं लाभ

0
0
41

जगदलपुर: राजस्व एवं आपदा प्रबंधन, पुनर्वास, उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास, रोजगार, विज्ञान एवं तकनीकी तथा जनशक्ति नियोजन विभाग एवं बस्तर जिले के प्रभारी मंत्री  प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने बुधवार को बस्तर जिले में संचालित विकास कार्यों की समीक्षा की।

जिला कार्यालय के प्रेरणा कक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक में मंत्री श्री पाण्डेय ने शासन की योजनाओं के माध्यम से हितग्राहियों को लाभान्वित करने के साथ ही इन योजनाओं के लाभ के संबंध में हितग्राही को पूरी जानकारी देने के निर्देश दिए। मंत्री ने श्रम विभाग की योजनाओं के समीक्षा के दौरान कहा कि शासन द्वारा असंगठित क्षेत्र के कर्मकारों के कल्याण के लिए अनेकों महत्वपूर्ण योजनाएं चलाई जा रही हैं।

उन्होंने कहा कि विभाग के कर्मचारियों के संगठित क्षेत्र के कर्मकारों के साथ ही असंगठित क्षेत्र के कर्मकारों के कल्याण के लिए संचालित इन योजनाओं को अंतिम हितग्राही तक पहुंचाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि असंगठित क्षेत्र के कर्मकारों का पंजीयन बढ़ाने के साथ ही विभाग की योजनाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दिए जाने की आवश्यकता भी है, जिससे वे इसका लाभ लेने के लिए प्रेरित हो सकें।

मंत्री ने कृषि विभाग की योजनाओं की समीक्षा के दौरान योजना की सार्थकता के लिए योजना की सम्पूर्ण जानकारी देने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि हितग्राहियों की अज्ञानता क कारण बिचौलिये सक्रिय होते हैं, जिससे सभी की छवि धुमिल होती है। उन्होंने हितग्राहियों के चयन को योजना की सफलता के लिए सबसे महत्वपूर्ण घटक बताया। उन्होंने शासन द्वारा उपलब्ध कराए गए खाद-बीज का सदुपयोग के लिए किसानों को प्रेरित करने के निर्देश दिए। मंत्री ने जिले में सौर सुजला पम्पों के प्रति किसानों की रुचि को देखते हुए इसका लक्ष्य बढ़ाने के निर्देश दिए।

कलेक्टर श्री धनंजय देवांगन ने बताया कि जिले में इस वर्ष 1000 सौर सुजला पम्पों की स्थापना का लक्ष्य है, जिसके विरुद्ध अब तक 736 पम्प स्थापित किए जा चुके हैं। वहीं 1747 प्रकरण पंजीबद्ध हैं। उन्होंने बताया कि बस्तर विकासखण्ड के लामकेर में इंद्रावती नदी के किनारे श्रंृखलाबद्ध ढंग से 11 पम्प स्थापित किए गए हैं, जिससे वहां के किसान अब सब्जी की खेती करने लगे हैं। वहीं तिरिया जैसे दुरस्थ क्षेत्र के किसानों के लिए यह योजना वरदान साबित हो रही है। उन्होंने बताया कि उन्होंने तिरिया क्षेत्र के भ्रमण के दौरान किसान भुवनेश्वर से भेंट किया था, जो वहां गोभी की खेती कर रहा है।

समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने बताया कि ‘सौभाग्य योजना के तहत जिले में 55 हजार से अधिक घरेलू कनेक्शन जून माह तक प्रदान करने का लक्ष्य है। वहीं उज्जवला योजना के तहत पिछले वर्ष शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल कर लिया गया था एवं इस वर्ष प्राप्त लक्ष्य 70509 के विरुद्ध 65 फीसदी लक्ष्य हासिल कर लिया गया है। शेष लक्ष्य को समय सीमा में प्राप्त करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा समुचित प्रयास किए जा रहे हैं। आधार सीडिंग का कार्य लगभग 94 फीसदी पूर्ण होने की जानकारी दी। धान खरीदी के संबंध में बताया कि 85 हजार मेट्रिक टन के लक्ष्य के विरुद्ध अब तक 82 हजार 207 मेट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है।

महात्मा गांधी रोजगार गांरटी योजनांतर्गत लंबित भुगतान के संबंध में मंत्री ने जानकारी ली और शीघ्र भुगतान के निर्देश दिए। उन्होंने पथरीले क्षेत्रों में डबरी खनन के स्थान पर दूसरे कार्यों को प्राथमिकता के निर्देश भी दिए। कलेक्टर श्री देवांगन ने बताया कि अच्छी कृषि के लिए भूमि सुधार के कार्य प्राथमिकता के साथ स्वीकृत किए जा रहे हैं।
मंत्री ने राजस्व विभाग के कार्यों की समीक्षा के दौरान नजूल पट्टा नवीनीकरण के प्रकरणों की अवधिवार लंबित प्रकरणों की जानकारी ली।

राजस्व निरीक्षकों द्वारा प्रतिवेदन नहीं देने के कारण लम्बे समय से लंबित प्रकरणों में संबंधित राजस्व निरीक्षकों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने नजूल भूमि नवीनीकरण कार्य शासन द्वारा दिए गए निर्देशों के तहत करने के निर्देश भी दिए। मंत्री ने नक्शा डिजीटाईजेशन के प्रगति की समीक्षा की और कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने डिजीटाईजेशन को शासन की महत्वपूर्ण योजना बताते हुए कहा कि इससे अब दस्तावेजों में पटवारियों के हस्ताक्षर की आवश्यकता नहीं रहेगी। मंत्री ने बंटवारा और सीमांकन के लंबित प्रकरणों की समीक्षा की और प्रकरणों के निराकरण में तेजी लाने के निर्देश दिए।

बैठक में आदिम जाति कल्याण एवं स्कूल शिक्षा मंत्री  केदार कश्यप, कलेक्टर  धनंजय देवांगन, पुलिस अधीक्षक  डी श्रवण, अपर कलेक्टर  हीरालाल नायक, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  रितेश अग्रवाल, सहायक कलेक्टर  राहुल देव सहित जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.